तू चाहिए शाम-ओ-सुबह तू चाहिए Tu Chahiye Lyrics In Hindi | Bajrangi Bhaijaan (2015) Atif Aslam

Rate this post

Tu Chahiye Lyrics In Hindi तू चाहिए Movie, Bajrangi Bhaijaan (2015) Singer, Atif Aslam | Star, Salman Khan, Kareena Kapoor Khan

गाना – Tu Chahiye Lyrics
फ़िल्म – बजरंगी भाईजान (2015)
गायकार – आतिफ असलम
गीतकार – अमिताभ भट्टाचार्य
कलाकार – सलमान खान, करीना कपूर खान
संगीतकार – प्रीतम चक्रवर्ती
संगीत लेबल – टी-सीरीज़

Tu Chahiye Lyrics In Hindi  Bajrangi Bhaijaan (2015) Atif Aslam

Tu Chahiye Lyrics In Hindi

हाल-ए-दिल को सुकून चाहिए
दूरी इक आरज़ू चाहिए

जैसे पहले कभी कुछ भी चाहा नहीं
वैसे ही क्यों चाहिए ?

दिल को तेरी
मौजूदगी का एहसास यूँ चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए

शाम-ओ-सुबह तू चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए
हर मर्तबा तू चाहिए

जितनी दफ़ा.. ज़िद्द हो मेरी
उतनी दफ़ा.. हाँ तू चाहिए
वो हो..

कोई और दूजा क्यों मुझे
ना तेरे सिवा चाहिए
हर सफर में मुझे

तू ही रहनुमा चाहिए
जीने को बस मुझे
तू ही मेहरमा चाहिए

हो सीने में अगर तू दर्द है
ना कोई दवा चाहिए
तू लहू की तरह

रागों में रवां चाहिए
अंजाम जो चाहे मेरा
हो आगाज़ यूँ चाहिए

तू चाहिए, तू चाहिए
शाम-ओ-सुबह तू चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए
हर मर्तबा तू चाहिए

जितनी दफ़ा.. ज़िद्द हो मेरी
उतनी दफ़ा.. हाँ तू चाहिए
वो हो..

मेरे ज़ख्मों को
तेरी छुअन चाहिए
मेरे शम्मा को
तेरी अगन चाहिए
मेरे ख्वाब के
आशियाने में तू चाहिए

मैं खोलूं जो आँखें
सिरहाने भी तू चाहिए
वो हो..

Song – Tu Chahiye Song Lyrics
Movie – Bajrangi Bhaijaan (2015)
Singer – Atif Aslam
Lyrics by – Amitabh Bhattacharya
Star – Salman Khan, Kareena Kapoor Khan
Music Director – Pritam Chakraborty
Music Label – T-Series

Tu Chahiye Lyrics In English

Haal e dil ko sukoon chahiye
Poori ik arzoo chahiye
Jaise pehle kabhi
Kuch bhi chaaha nahi

Waise hi kyun chahiye
Dil ko teri maujudgi ki
Ka ehsaas yun chahiye

Tu chahiye tu chahiye
Shaam o subah tu chahiye
Tu chahiye… tu chahiye..
Har martaba tu chahiye

Jitni dafaa… zidd ho meri
Utni dafaa… haan tu chahiye

Koi, aur dooja, kyun mujhe
Na tere siva chahiye
Har safar mein mujhe

Tu hi rehnuma chahiye
Jeene ko, bas mujhe
Tu hi mehrma chahiye

Ho..
Seene mein agar tu dard hai
Na koi dawa chahiye
Tu lahu ki tarah

Ragon mein rawaan chahiye
Anjaam jo chahe mera
Woh aagaaz yun chahiye

Tu chahiye tu chahiye
Shaam o subah tu chahiye
Tu chahiye… tu chahiye…
Har martaba tu chahiye

Jitni dafaa… zidd ho meri
Utni dafaa… haan tu chahiye

Mere zakhmon ka
Teri chhuan chahiye
Mere shamma ko
Teri agan chahiye
Mere khwaab ke
Aashiyane mein tu chahiye

Main kholun yeh aankhein
Sirhane bhi tu chahiye

Leave a Comment